Related Posts with Thumbnails

"आँधी और आग" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ' मयंक')

Monday, 18 April 2011

खटीमा (उत्तराखण्ड)
दिनांक-17.04.2011
समय- रात्रि 8.45
3 घण्टे तक भयंकर आँधी चलती रही
इतने लम्बे समय तक आँधी कभी नहीं आयी। 
गेहूँ के खेत जलकर भस्मीभूत हो गये। 
 दो मंजिले की छत पर भी
खेतों में लगी आग की गरमी
हम अनुभव कर रहे थे।
 खटीमा, टनकपुर तथा मिलिट्री कैंट बनबसा से
फायरब्रिगेड की गाड़ियाँ बुलाई गयीं।
चारों ओर से जलते हुए गेंहूँ के खेतों में
दमकल की गाड़ियोँ पानी की बौछार करतीं रहीं।
एक घण्टे की मशक्कत के बाद आग शान्त हुई।
मगर तब तक आग काफी तबाही मचा चुकी थी।

2 comments:

ईं.प्रदीप कुमार साहनी 19 May 2011 at 08:16  

कृपया मेरी भी कविता पढ़ें और अपनी राय दें..
www.pradip13m.blogspot.com

Richa P Madhwani 4 June 2011 at 21:44  

http;//shayaridays.blogspot.com

Post a Comment

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

अब मेरे सभी ब्लॉग्स का पता इस प्रकार रहेगा
(शब्दों का दंगल) http://uchcharandangal.uchcharan.com
(उच्चारण) http://uchcharan.uchcharan.com
(मयंक) http://powerofhydro.uchcharan.com
(नन्हे सुमन) http://nicenice-nice.uchcharan.com
(बाल चर्चा मंच) http://mayankkhatima.uchcharan.com
(चर्चा मंच) http://charchamanch.uchcharan.com
(अमर भारती) http://bhartimayank.uchcharan.com
E-MAIL
rcshashtri@uchcharan.com

My Blog List

  © Blogger template Brownium by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP