Related Posts with Thumbnails

"बैठकर के धूप में मस्ताइए" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

Tuesday, 18 December 2012

कव्वाली
आ गई हैं सर्दियाँ सुस्ताइए।
बैठकर के धूप में मस्ताइए।।

पड़ गई हैं छुट्टियाँ स्कूल की.
बर्फबारी देखने को जाइए।
बैठकर के धूप में मस्ताइए।।

रोज दादा जी जलाते हैं अलाव,
गर्म पानी से हमेशा न्हायिए।
बैठकर के धूप में मस्ताइए।।

रात लम्बी, दिन हुए छोटे बहुत,
अब रजाई तानकर सो जाइए।
बैठकर के धूप में मस्ताइए।।

खूब खाओ सब हजम हो जाएगा,
शकरकन्दी भूनकर के खाइए।
बैठकर के धूप में मस्ताइए।।

Read more...

Sunday, 14 October 2012

सभी मित्रों को
नवरात्रि की
हार्दिक शुभकामनाएँ!

Read more...

"टीचर जी! मत पकड़ो कान" (काव्यानुवाद-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

Monday, 16 January 2012

काव्यानुवाद 
(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

टीचर जी!
मत पकड़ो कान।
सरदी से हो रहा जुकाम।।

लिखने की नही मर्जी है।
सेवा में यह अर्जी है।।

ठण्डक से ठिठुरे हैं हाथ।
नहीं दे रहे कुछ भी साथ।।

आसमान में छाए बादल।
भरा हुआ उनमें शीतल जल।।

दया करो हो आप महान।
हमको दो छुट्टी का दान।।

जल्दी है घर जाने की।
गर्म पकोड़ी खाने की।।

जब सूरज उग जाएगा।
समय सुहाना आयेगा।।

तब हम आयेंगे स्कूल।
नहीं करेंगे कुछ भी भूल।।
मूल पाठ (श्रीमती रजनी माहर)
mat pakado kan hamare teacher je....
aaj bahut sardi hai....
kaanp rahe hai haath hamare ..
likhne kee nahi marji hai......
suraj ko dhak raha hai baadal..
dekho kitana bedardi hai......
daya karo aab choor do hamko ..
ghar jane ki jaldi hai......
aab to bas mummi ke hatho 
khani garam pakaudi hai.....
mat pakado kan hamare teacher jee ..
aaj bahut sardi hai...

Read more...
अब मेरे सभी ब्लॉग्स का पता इस प्रकार रहेगा
(शब्दों का दंगल) http://uchcharandangal.uchcharan.com
(उच्चारण) http://uchcharan.uchcharan.com
(मयंक) http://powerofhydro.uchcharan.com
(नन्हे सुमन) http://nicenice-nice.uchcharan.com
(बाल चर्चा मंच) http://mayankkhatima.uchcharan.com
(चर्चा मंच) http://charchamanch.uchcharan.com
(अमर भारती) http://bhartimayank.uchcharan.com
E-MAIL
rcshashtri@uchcharan.com

My Blog List

  © Blogger template Brownium by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP